Sunday, November 29, 2009

Childhood...a beautiful fragrance







Childhood…a beautiful fragrance ,bearing the most precious chandelier steps of life.

The word ,itself bloom out all those treasures of memories everyone jealous to get back once. Those pleasant innocence, beautiful unconvincing dreams, blossoming faiths, erratic thoughts, escalating beliefs.., those angels whispering in dreams…allegorical illusions, those tricks to conceal things… just seems like an inwrought idyll now.

It’s true that everyone experiences might not be so fruitful.Reality cannot hide those true hard aspects that someone suffered in those tender stages .In midst of those agony ,the soul couldn’t experience that pain, that’s what lies a magic behind childhood .psychologists believe that it will be basis for what you are now really!. those mild hopes just getting its existence in present way…

All those precious reminiscence just give a chance once to have a journey towards that again.
brume just passed ,when I opened my eyes ,..saw those foot prints have grown accompanying seizeless time, just to have a glimpsing fiction……..




































where you had been?
leaving me in midst of this journey,
experiencing me that mild pleasance
those sincere laughter's ,those innocent rejoice.

those marvelous rainy days...
paper boats floating across a narrow stream,
that cute colored umbrella
just to show friends I had one..

those stingy classes ,and heavy rules
curious ears waiting to listen the bell ringing..
luckily having some fun, sitting being one in that big circle
hurried to share friends lunch..

I miss those exciting playtimes
aspiring spirits with bit of innocent quarreling.
I miss those blooming birthdays
amicable handshakes and pretty hugs.

Beautiful twilight welcoming
while back to home..
with lots of funny talks, knotty tricks
candy parties on the way.

those crescent moon days, dreamy stars...
mesmerizing fairy tales,
mom's lovely songs...
just comfort those tired eyes.

those summer holidays, sunshine dreams
lengthy plans for amusements,
bit boring home works obs tackling in middle.
finally welcoming the first day of new class with warm hopes.

days just passed away
leaving the same old foot print on the wild sand grown
just left some beautiful fragrance,
with a treasure of unprecedented memories...







मेरा नया बचपन – सुभद्राकुमारी चौहान
बार-बार आती है मुझको मधुर याद बचपन तेरी।
गया ले गया तू जीवन की सबसे मस्त खुशी मेरी॥
चिंता-रहित खेलना-खाना वह फिरना निर्भय स्वच्छंद।
कैसे भूला जा सकता है बचपन का अतुलित आनंद?

ऊँच-नीच का ज्ञान नहीं था छुआछूत किसने जानी?
बनी हुई थी वहाँ झोंपड़ी और चीथड़ों में रानी॥
किये दूध के कुल्ले मैंने चूस अँगूठा सुधा पिया।
किलकारी किल्लोल मचाकर सूना घर आबाद किया॥

रोना और मचल जाना भी क्या आनंद दिखाते थे।
बड़े-बड़े मोती-से आँसू जयमाला पहनाते थे॥
मैं रोई, माँ काम छोड़कर आईं, मुझको उठा लिया।
झाड़-पोंछ कर चूम-चूम कर गीले गालों को सुखा दिया॥

दादा ने चंदा दिखलाया नेत्र नीर-युत दमक उठे।
धुली हुई मुस्कान देख कर सबके चेहरे चमक उठे॥
वह सुख का साम्राज्य छोड़कर मैं मतवाली बड़ी हुई।
लुटी हुई, कुछ ठगी हुई-सी दौड़ द्वार पर खड़ी हुई॥

लाजभरी आँखें थीं मेरी मन में उमँग रँगीली थी।
तान रसीली थी कानों में चंचल छैल छबीली थी॥
दिल में एक चुभन-सी थी यह दुनिया अलबेली थी।
मन में एक पहेली थी मैं सब के बीच अकेली थी॥

मिला, खोजती थी जिसको हे बचपन! ठगा दिया तूने।
अरे! जवानी के फंदे में मुझको फँसा दिया तूने॥
सब गलियाँ उसकी भी देखीं उसकी खुशियाँ न्यारी हैं।
प्यारी, प्रीतम की रँग-रलियों की स्मृतियाँ भी प्यारी हैं॥

माना मैंने युवा-काल का जीवन खूब निराला है।
आकांक्षा, पुरुषार्थ, ज्ञान का उदय मोहनेवाला है॥
किंतु यहाँ झंझट है भारी युद्ध-क्षेत्र संसार बना।
चिंता के चक्कर में पड़कर जीवन भी है भार बना॥

आ जा बचपन! एक बार फिर दे दे अपनी निर्मल शांति।
व्याकुल व्यथा मिटानेवाली वह अपनी प्राकृत विश्रांति॥
वह भोली-सी मधुर सरलता वह प्यारा जीवन निष्पाप।
क्या आकर फिर मिटा सकेगा तू मेरे मन का संताप?

मैं बचपन को बुला रही थी बोल उठी बिटिया मेरी।
नंदन वन-सी फूल उठी यह छोटी-सी कुटिया मेरी॥
‘माँ ओ’ कहकर बुला रही थी मिट्टी खाकर आयी थी।
कुछ मुँह में कुछ लिये हाथ में मुझे खिलाने लायी थी॥

पुलक रहे थे अंग, दृगों में कौतुहल था छलक रहा।
मुँह पर थी आह्लाद-लालिमा विजय-गर्व था झलक रहा॥
मैंने पूछा ‘यह क्या लायी?’ बोल उठी वह ‘माँ, काओ’।
हुआ प्रफुल्लित हृदय खुशी से मैंने कहा – ‘तुम्हीं खाओ’॥

पाया मैंने बचपन फिर से बचपन बेटी बन आया।
उसकी मंजुल मूर्ति देखकर मुझ में नवजीवन आया॥
मैं भी उसके साथ खेलती खाती हूँ, तुतलाती हूँ।
मिलकर उसके साथ स्वयं मैं भी बच्ची बन जाती हूँ॥

जिसे खोजती थी बरसों से अब जाकर उसको पाया।
भाग गया था मुझे छोड़कर वह बचपन फिर से आया॥
-Poem by Subhadra Kumari Chauhan





























































1 comment:

mangala said...

Lovely Bindu malini ..